Untitled Document

t; Hkkjr

t; mRrjk[k.M

Navbar
History UKD :

हमारा संकल्प :
राज्य की राजधानी गैरसेण बनाना ।
राज्य से पलायन पर रोक लगाना ।
राज्य की परि सम्पत्तियो को उ ़प्र ़ से मुक्त करवाना ।
सुदूर आॅंचलो में पर्यटन केन्द्रो की स्थापना ।
छोटी-छोटी जल विद्याुत परियोजनाओ का विकास
सर्वधर्म समभाव के साथ-साथ पिछड़े, दलितो, अल्पसंख्यको, जनजातियो के हितो की पुर्ण सुरक्षा ।
राज्य के विकास में पारदर्षिता तथा भ्रश्टाचार पर पूर्ण अंकुष ।
उत्तराखण्ड के आर्थिक विकास हेतु दल व्यवहारिक योजनाओ पर अमल करेगा ।
गडवाली, कुमाऊनी भाशा को संविधान की 8 वी अनुसूची में षामिल करवाना ।
राज्य के मुल निवासियो पर स्थायी निवास की बाध्यता समाप्त करना ।

उत्तराखण्ड राज्य में केवल क्षेत्रीय दल ही क्यों?
उत्तराखण्ड राज्य की विचार क्रान्ति उ ़क्रा ़द ़ ने ही जन-जन तक पहुचाई और राज्य का गठन भी करवाया ।
दल की स्थापना से लगातार राज्य आन्दोलन की मषाल को लेकर आन्दोलन जारी रखा ।
उत्तराखण्ड में विकास कार्यो मे बाधक वन संरक्षण अधिनियम 1980 के विरूद्व ऐतिहासिक आन्दोलन किया ।
दल के संरक्षक स्व ़ जसवन्त सिंह बिश्ट एवं इन्द्रमणी बडोनी द्वारा वर्श 1987 में ?घाट से देहरादून तक ऐतिहासिक पद यात्रा तथा जन- जागरण कर राज्य की जनता को पृथक राज्य के औचित्य को समझाया ।
दिल्ली के वोट क्लब में ऐंतिहासिक रैली की ।
तमाम विरोधो के बावजूद दल के विधायक मा ़ काषी सिंह ऐरी जी ने उ ़प्र ़ विधानसभा में उत्त्राखण्ड की आवाज लगातार बुलन्द की
वर्श 1994 में पौडी में स्व ़ इन्द्रमणाी बडोनी जी के नेतृत्व में राज्य हेतु भुख हडताल प्रारम्भ की ।
उ ़ क्रा ़ द ़ के नेंतृत्व में 1994 से राज्य बननें तक उत्तराखण्ड संयुक्त संघर्श समिति के माध्यम से सम्पुर्ण राज्य में आन्दोलन चलाकर 9 नवम्बर 2000 को राज्य बनने तक आन्दोलन किया ।
जाति धर्म वर्गवाद से उपर उत्तराखण्ड का एकमात्र राजनीतिक दल उ ़क्रा ़द ़ ही है ।
राज्य के विकास की सोच रखने वाला एक मात्र दल उ ़क्रा ़द ।
हिमालय को बचाना है ! जल, जंगल, जमीन को बचाना है , भ्रश्टाचार मिटाना है , उत्तराखण्ड क्रान्ति दल को लाना है !


Untitled Document